जैन धर्म में बलदेव

जैन धर्म में बलदेव कि संख्या 9 होती है, ये धर्मात्मा होते है , तथा हमेशा देव लोक या मोक्ष हि पधारते है, अति पुण्य आत्मा बलदेव का पद धारण करती है। बलदेव वासुदेव के भाई होते है , जो यहाँ बलदेव कि साह्यता के लिए होते है ।

एक काल में वासुदेव, प्रति वासुदेव और बलदेव होते है । इस प्रकार से एक बार में तीन महान विभूती होने से 27 महान पुरूष एक काल क्रम में होते है। यहाँ बलदेव व वासुदेव धर्म के अवतार कहे जाते है, और प्रतिवासुदेव प्रतिनायक के रूप में होता है ।

वासुदेव , प्रति वासुदेव का चक्र रत्न से अंत कर धर्म कि स्थापना करते है। यहा बलदेव साहयक के रूप में होता है । बलदेव धर्म कि प्रतिमूर्ती कहे जाते है।
बलदेव राम जी
 बलदेव राम जी

जैन धर्म में 9 बलदेव का उल्लेख है - :

1. विजय जी

2. अचल जी

3. भद्रा जी

4. सुप्रभ जी

5. सुदर्शन जी

6. नन्दीसेन जी

7. नन्दीमित्र जी

8. राम जी

9. बलराम जी

अगर कोई गलती हो तो "मिच्छामी दुक्कड़म" ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.