जैन धर्म में प्रतिवासुदेव

जैन धर्म में प्रतिवासुदेवो कि संख्या 9 होती है, ये 63 उत्कृष्ट श्लाकापुरूष में गिने जाते है, ये प्रतिनायक होते है , प्रत्येक प्रति वसुदेव अपने काल के धर्मनिष्ठ वासुदेव के हाथों मारा जाता है।
फिर भी प्रति वासुदेवो कि कुछ विशिष्टता होती है, जिस कारण से ये पहचाने जाते है।

प्रतिवासुदेव रावण जी
प्रतिवासुदेव रावण जी

प्रतिवासुदेवो कि संख्या 9 होती है-:

1.अश्वग्रीव जी

2. तारक जी

3. मेरक जी

4. मधु कैटभ जी

5. निशुम्भ जी

6. बलि जी

7. प्रहलाद जी

8. रावण जी

9. जरासंध जी



अगर कोई गलती हो तो "मिच्छामी दुक्कड़म" ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.