सुविधनाथ जी

प्रभु सुविधनाथ जी जैन धर्म के 9वें तीर्थंकर है । प्रभु जी का दुसरा नाम पुष्पदंत जी भी है , प्रभु सुवधिनाथ जी पुष्पदंत जी के नाम से भी विख्यात है । प्रभु का जन्म मार्गकृष्ण पंचमी को हुआ था ।
प्रभु के पिता का नाम सुग्रीव तथा माता का नाम जयरामा देवी था । प्रभु का प्रतीक चिह्न 'मगर' था । प्रभु की देह का रंग दुध की भाँती सफेद था । 

सुवधिनाथ जी

प्रभु के शरीर की ऊंचाई 100 धनुष (300 मीटर) थी, प्रभु की कुल आयु 2,00,000 वर्ष पूर्व थी ।
प्रभु ने मार्गशीर्ष शुक्ल एकम के दिन काकंदी नगर में मुनी दीक्षा ग्रहण की और प्रभु चार ज्ञान के धारक हो गये । इसके पश्चात् प्रभु ने कठोर तपस्या कर अपने चार घनघाती कर्मों का क्षय कर कार्तिक शुक्ल दुज के दिन कैव्लय ज्ञान प्राप्त हुआ और प्रभु सर्वज्ञ , समस्त जगत के ज्ञाता दृष्टा हो गये । प्रभु ने अरिहंत अवस्था प्राप्त की , प्रभु के चार कर्म नष्ट हो चुके थे और चार कर्म अभी बाकी थे । प्रभु ने अरिहंत अवस्था पाने के बाद अपना प्रथम उपदेश दिया, और साधु,साध्वी,श्रावक,श्राविका चार तीर्थों की स्थापना की और तीर्थंकर कहलाये ।


प्रभु के 88 गणधर थे । प्रभु के यक्ष का नाम अजित तथा यक्षिणी का नाम महाकाली था । प्रभु के प्रमुख गणधर का नाम श्री विर्दभ जी था । 
इसके पश्चात प्रभु अपने समस्त अष्ट कर्मो का क्षय कर भाद्रपद शुक्ल अष्टमी के दिन मूला नक्षत्र में सम्मेद शिखर जी में मोक्ष कि प्राप्ती हुई । प्रभु ने निर्वाण प्राप्त कर सिद्ध अवस्था प्राप्त की ।

" प्रभु सुवधिनाथ जी की जय हो "

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां