शांतिनाथ जी का जीवन परिचय

प्रभु शांतीनाथ जी जैन धर्म के 16वें तीर्थंकर है । प्रभु शांतीनाथ जी का जन्म ज्येष्ठ कृष्ण चतुर्दशी को हस्तिनापुर में हुआ । तीर्थंकर शांतीनाथ जी के पिता का नाम राजा विश्वसेन तथा माता का नाम ऐरादेवी था । प्रभु की देह का रंग स्वर्ण के समान था तथा उन्का प्रतीक चिह्न हिरण था । प्रभु ने तीर्थंकर गोत्र नामकर्म का उपार्जन राजा मेघरथ के भव में किया था ।

यह भी देंखें - राजा मेघरथ की कथा (जैन कहानी)

शांतिनाथ जी

प्रभु शांतीनाथ जी इस काल के पहले ऐसे तीर्थंकर थे जो तीर्थंकर होने के साथ - साथ चक्रवर्ती भी थे । 
प्रभु शांतिनाथ जैन धर्म में वर्णित 12 चक्रवर्तियो में सें पांचवें (5वें) चक्रवर्ती थे ।


प्रभु शांतीनाथ जी की आयु 1,00,000 वर्ष थी तथा प्रभु की देह का आकार 40 धनुष था । प्रभु शांतिनाथ ने ज्येष्ठ कृष्ण चतुर्दशी के दिन दीक्षा ग्रहण की थी , दीक्षा कल्यणक के साथ ही प्रभु को मनः पर्व ज्ञान की प्राप्ती हुई । प्रभु शांतिनाथ जी का साधना काल 16 वर्ष का था ।

इन 16 वर्षो की साधना में प्रभु ने जन्म जन्मांतरो से चले आ रहे अपने घाती कर्मो (अष्ट कर्मो में सें चार कर्म ) का अंत कर पौष शुक्ल दशमी के दिन निर्मल कैवलय ज्ञान की प्राप्ती की । कैवलय ज्ञान के साथ ही प्रभु अरिहंत , जिन ,केवली हो गये । इसके पश्चात् प्रभु ने चार तीर्थं (साधु, साध्वी, श्रावक, श्राविका) की स्थापना की तथा स्वयं तीर्थंकर कहलाये ।


प्रभु का संघ बहुत ही सुदृढ़ और विशाल था । प्रभु शांतिनाथ जी के 62 गणधर थे । प्रभु शांतिनाथ जी के प्रथम गणधर का नाम चक्रयुद्ध था । प्रभु के समवशरण में चार हजार केवली थे । प्रभु के यक्ष का नाम गरुड देव तथा यक्षिणी का नाम महामानसी देवी था ।


प्रभु शांतिनाथ ने ज्येष्ठ कृष्ण चतुर्दशी के दिन सम्मेद शिखर जी से निर्वाण प्राप्त किया , प्रभु के निर्वाण प्राप्त करते हि प्रभु ने अष्ट कर्मो का क्षय कर 'सिद्ध' कहालाये ।

" नमो सिद्धाणं "


अगर आपको मेरी यह blog post पसंद आती है तो please इसे Facebook, Twitter, WhatsApp पर Share करें ।

अगर आपके कोई सुझाव हो तो कृप्या कर comment box में comment करें ।

Latest Updates पाने के लिए Jainism Knowledge के Facebook page, Twitter account, instagram account को Follow करने के लिए हमारे Social media पेज पर जायें ।

" जय जिनेन्द्र "

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.