श्री मुनिसुव्रतनाथ भगवान की आरती

तीर्थंकर प्रभु मुनिसुव्रत जी

श्री मुनिसुव्रतनाथ भगवान की आरती

ॐ जय मुनिसुव्रत स्वामी, प्रभु जय मुनिसुव्रत स्वामी
भक्ति भाव से प्रणमूँ तुमको, जय अंतरयामी|| ॐ जय…
राजगृही में जन्म लिया प्रभु, आनंद भयो भारी
सुर-नर-मुनि गुण गायें तिहारी, आरती कर थारी|| ॐ जय…
पिता तुम्हारे सुमित्र राजा, श्यामा के जाया
श्यामवर्ण मूरत है तेरी, पैठन में अतिशय दर्शाया|| ॐ जय…
जो ध्यावे सुख पावे सब ही, सब संकट दूर करें
मनवांछित फल पावें सब ही, जो प्रभु चरण धरें|| ॐ जय…
जन्म-मरण दुःख हरो प्रभु, सब पाप मिटे मेरे
ऐसी कृपा करो प्रभु हम पर, दास रहें तेरे|| ॐ जय…
निज-गुण ज्ञान का दीपक, ले आरती करूँ थारी
सम्यक ज्ञान दो सबको, जय त्रिभुवन के स्वामी|| ॐ जय…
ॐ जय मुनिसुव्रत स्वामी, प्रभु जय मुनिसुव्रत स्वामी
भक्ति भाव से प्रणमूँ, जय अंतरयामी|| ॐ जय…




अगर आपको मेरी यह blog post पसंद आती है तो please इसे Facebook, Twitter, WhatsApp पर Share करें ।

अगर आपके कोई सुझाव हो तो कृप्या कर comment box में comment करें ।

Latest Updates पाने के लिए Jainism knowledge के Facebook page, Twitter account, instagram account को Follow करें । हमारे Social media Links निचे मौजूद है ।

Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.