why do jain monks cover their mouths ?

जैन साधु मुँह पर पट्टी क्यो बाँधते है ?

जैन धर्म का प्रमुख सिद्धांत अहिंसा है , और एक जैन मुनी जब दीक्षा ग्रहण करता है तब वह सभी प्रकार के जीवो कि हिंसा का त्याग करता है। जहाँ तक संभव हो सके वह जीव -जंतुओ कि सहायता करते है, इस प्रकार से वायु मे पनप ने वाले छोटे जीवो कि रक्षा के लिए जैन साधु-साध्वी मुँह पर पट्टी बाँधते है, प्राकृत भाषा मे इन्हे बादर - वायुकाय कहा जाता है।


jain monks
जैन मुनी
जैन मुनी न दिखने वाले जीवों के प्रती भी दया भाव रखते है , आज से सैकडो वर्ष पहले जब लोगो को सूक्ष्म जीवो का ज्ञान नही था तब भी जैन मुनी मुँह पर पट्टी लगाते थे । 


दुसरा इसका प्रमुख कारण है कि जब कभी जैन मुनी शास्त्र कि वाचना करते है , तब उनके मुंह से सूक्ष्म मात्रा में भी थूक का अंश पवित्र पुस्तक पर नही पडता ऐसा करके वह शास्त्र के प्रति सम्मान व्यक्त करते है।अहिंसा व जीव दया ,पंचमहाव्रती , 3 गुप्तीयो को धारण करने के कारण जैन मुनी मुहँ पर पट्टी धारण करते है

अगर कोई त्रुटी हो तो "तस्स मिच्छामी दुक्कडम".

अगर आपको मेरी यह blog post पसंद आती है तो please इसे FacebookTwitterWhatsApp पर Share करें ।

अगर आपके कोई सुझाव हो तो कृप्या कर comment box में comment करें ।

Latest Updates पाने के लिए Jainism knowledge के Facebook pageTwitter accountinstagram account को Follow करें । हमारे Social media Links निचे मौजूद है ।

" जय जिनेन्द्र ".

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां