सोलह सती स्तोत्र

यह स्तोत्र जैन धर्म में वर्णित सोलह सतियो की स्तुती करने वाला है ,इस एक स्तोत्र के पाठ से हम सभी 16 सतियो की वंदना कर लेते है , यह स्तोत्र महामंगलदायी है , शुद्ध श्रद्धा भाव से सोलह सती स्तोत्र का नित्य पाठ करें ।

यह भी देखें - सोलह सती का छन्द

जैन स्तोत्र

सोलह सती स्तोत्र

आदौ सती सुभद्रा च, पातु पश्चात्तु सुन्दरी।
ततश्चन्दनबाला च, सुलसा च मृगावती ॥ १ ॥

राजीमती ततश्चूला, दमयन्ती ततः परम् ।
पद्मावती शिवा सीता, ब्राह्मी पुनश्च द्रौपदी ॥ २ ॥

कौशल्या च ततः कुन्ती, प्रभावती सती बरा ।
सतीनामांक-यत्रोऽयं चतुस्त्रिंशत्-समुद्भवः ॥ ३ ॥

यस्य पार्वे सदा यन्त्रो, वर्तते तस्य साम्प्रतम् ।
भूरि-निद्रा न चायाति, नायान्ति भूतप्रेतकाः ॥ ४ ॥

ध्वजायां नृपतेर्यस्य, यन्त्रोऽयं वर्तते सदा ।
तस्य शत्रुभय नास्ति संग्रामेऽस्य जयः सदा ॥ ५ ॥

गृह-द्वारे सदा यस्य यन्त्रोऽयं ध्रियते वरः।
कार्मणादिकतन्त्रैश्च न स्यात् तस्य पराभवः ॥ ६ ॥

स्तोत्रं सतीनां सुगुरुप्रसादात्,कृतं मयोद्योत मृगाधिपेन ।
यः स्तोत्रमेतत् पठति प्रभाते,स प्राप्नुते शं सततं मनुष्यः॥७


अगर आपको मेरी यह blog post पसंद आती है तो please इसे Facebook, Twitter, WhatsApp पर Share करें ।

अगर आपके कोई सुझाव हो तो कृप्या कर comment box में comment करें ।

Latest Updates पाने के लिए Jainism Knowledge के Facebook page, Twitter account, instagram account को Follow करने के लिए हमारे Social media पेज पर जायें ।

" जय जिनेन्द्र "

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ