नवकार महामंत्र की आरती

0
नवकार मंत्र ' जैन धर्म ' का प्रमुख महामंत्र है । यह मंत्र चौदह पूर्वो का सार है , इसे मंत्रराज , महामंत्र , नमस्कार महामंत्र आदि नामो से भी संबोंधित करते है ।


नवकार मंत्र की आरती - Jainismknowledge

नवकार महामंत्र की आरती

जय 'अरिहंताण', स्वामी जय अरिहंताण।
भाव-भक्ति से नित्य-प्रति, प्रणमूं 'सिद्धाण' ॥
ॐ जय अरिहंताण ||टेर॥
दर्शन-ज्ञान-अनन्ता, शक्ति के धारी | स्वामी।
यथाख्यात समकित है, कर्म-शत्रु हारी || ॐ ||1||
हे सर्वज्ञ !सर्वदर्शी ! बल, सुख अनन्त पाये ।स्वामी।
अगुरुलघु अमूरत, अव्यय कहलाये ।।ॐ।।2।।
'नमो आयरियाण', छत्तीस गुण पालक ।स्वामी।
जैनधर्म के नेता, संघ के संचालक || ॐ।।3।।
'नमो उवज्झायाणं' चरण-करण ज्ञाता | स्वामी ।
अंग-उपांग पढ़ाते, ज्ञान-दान दाता ।। ॐ|4||
'नमो लोए सव्व साहूणं ' ममता मद हारी | स्वामी ।
सत्य-अहिंसा-अस्तेय, ब्रह्मचर्य धारी ।। ॐ ।।5।।
'चौथमल' कहे शुद्ध मन, जो नर ध्यान धरे । स्वामी ।
पावन पंच परमेष्ठी, मंगलाचार करे॥ॐ।।6।।

" पंच परमेष्ठी की जय "


अगर आपको मेरी यह blog post पसंद आती है तो please इसे Facebook, Twitter, WhatsApp पर Share करें ।

अगर आपके कोई सुझाव हो तो कृप्या कर comment box में comment करें ।

Latest Updates पाने के लिए Jainism knowledge के Facebook page, Twitter account, instagram account को Follow करें । हमारे Social media Links निचे मौजूद है ।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ

कृपया कमेंट बॉक्स में कोई भी स्पैम लिंक न डालें।

एक टिप्पणी भेजें (0)